घाव शायरी, इंस्पिरेशनल गहराई भरी लाइन्स (बेख़ौफ़ गगन में उड़ना मुश्किल)

32

मझधार से वापस मुड़ना काफी मुश्किल होता है
तो किसी का बिखर कर जुड़ना काफी मुश्किल होता है
घाव तो बहुत आसानी से भर जाते है, लेकिन…
फिर से बेख़ौफ़ गगन में उड़ना काफी मुश्किल होता है|

~ सुधांशु रावत

Comments

comments